ह्यूमन ब्रेन के बारे में जानिए हैरान करने वाले रोचक तथ्य!

ह्यूमन ब्रेन से 12 से 25 वाट तक बिजली उत्पादित की जा सकती है जो एक बल्ब चलाने के लिए पर्याप्त है।

अगर इंसान 90 मिनट लगातार पसीने से भीगा रहता है तो उसे मानसिक बीमारी का सामना करना पड़ सकता है।

नींद की गोली नींद नहीं बल्कि दिमाग को कोमा में होने का आभास कराती है।

बचपन में छोटे बच्चे काफी सोते हैं क्योंकि शरीर से प्रोड्यूस होने वाला ग्लूकोज का 50 फीसदी इस्तेमाल ब्रेन करता है।

इंसानी दिमाग पुरे शरीर के वजन का 2% होता है।

ह्यूमन ब्रेन में प्रतिदिन 70,000 से ज्यादा विचार का आना होता है जिसमें से 70% नेगेटिव होते हैं।

ज्यादा टीवी देखने वाले लोगों का दिमाग जल्दी विकसित नहीं हो पाता बल्कि किताबें पढ़ने वालों का ज्यादा बेहतर विकास होता है। क्योंकि टीवी देखने में दिमाग का इस्तेमाल ज्यादा नहीं होता।

साल 1883 में एक रूसी राइटर की मौत हुई थी जब उनके दिमाग का वजन जाना गया तो आपको हैरानी होगी उनके दिमाग का वजन 2.5 किलो था। उनका नाम Ivan Turgenew था।

जब भी आप हंसते हैं तो दिमाग के 5 हिस्से एक साथ काम करते हैं।