Teacher Day Facts:- 5 Amazing Facts about Teachers Day in Hindi

Teacher Day एक ऐसा खास दिन जो यूं तो हर दिन मनाया जाना चाहिए लेकिन यह दिन भी बाकी दिनों की तरह ही रह जाता है। भारत देश अपने शुरुआती दौर से गुरु शिष्य के अटूट संबंधों के लिए जाना जाता रहा है। हर इंसान अपने जीवन में कुछ सपने जरूर देखता है और चाहता है की उस सपने को हकीकत बना पाए। इसी सपने को रियल बनाने के लिए एक रास्ते पर चलना होता है जिसपर चलना हमें यही Teacher सिखाते हैं। 

 

Teacher पर कबीर जी का दोहा

 

“गुरु गोविंद दोऊ खड़े, काके लागूं पाए,

बलिहारी गुरु आपने, गोविन्द दियो बताय”

मशहूर कवि संत कबीर जी ने अपने दोहे में गुरुओं का वर्णन बेहद ही प्रबल तरीके से किया है। आसान भाषा में यह दोहा समझा जाए तो कवि कहना यह चाहते हैं की गुरु होते तो एक इंसान के रूप में हैं लेकिन उनका औधा भगवान से भी ऊपर होता है। कहते हैं की अगर कोई व्यक्ति अपने माता-पिता और गुरुओं का आदर नहीं कर सकता वह जीवन में कभी सफल भी नहीं हो सकता। 

 

दोस्तों भारत में गुरुओं का महत्व है लेकिन जैसे जैसे समय में बदलाव आ रहा है वैसे ही गुरुओं का सम्मान केवल Teacher Day तक ही सीमित हो चुका है। हालांकि यह हर इंसान के लिए नहीं कहा जा सकता लेकिन काफी लोगों के लिए यह कहा जा सकता है की उन्हे Teacher का महत्व नहीं पता है। इस पोस्ट के जरिए आपको Teacher Day Kyun manaya jata hai और Teacher Day Facts से रूबरू कराया जाएगा।

 

Teacher kon hota hai?

 

Teacher हर वह शख्स जो आपको शिक्षा देता है। यह शिक्षा किसी भी लहजे में हो सकती है। जैसे की किताबी ज्ञान, खेल और सबसे महत्वपूर्ण jeevan ka gyan क्योंकि जीवन का ज्ञान होना सबसे जरूरी है इसकी जानकारी के बिना इंसान अज्ञानी ही हैं। 

 

Teacher Day Kyun manaya jata hai?

 

भारत में Teacher Day दूसरे राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के बर्थडे के दिन मनाया जाता है। सभी के सफल जीवन में बहुत बड़ा योगदान अध्यापकों का होता है। डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी एक अध्यापक भी रहे थे। उनके ही आग्रह पर उनके जन्मदिन को टीचर डे के रूप में मनाया जाता है। 

 

भारत में Teacher Day कैसे मनाया जाता है?

 

देश में हर फेस्टिवल हर फंक्शन बेहद मजेदार तरीके से मनाया जाता है। ठीक इसी तरह स्कूल और कॉलेज/यूनिवर्सिटी में भी टीचर डे की रौनक देखते ही बनती है। बच्चे अपने सभी टीचर के लिए केक का इंतजाम करते हैं, नाच गाना होता है। गेम्स खेलें जाते हैं। इसी दिन सरकार टीचरों के सम्मान में देश के सर्वश्रेष्ठ टीचरों को पुरुस्कार देकर सम्मान किया जाता है।

 

Teacher Day Facts:- 5 Amazing Facts about Teacher Day

 

  1. टीचर डे भारत में 5 सितंबर को मनाया जाता है लेकिन अगर विश्व भर में टीचर डे की बात की जाए तो यह तारीख 5 अक्टूबर हो जाती है। बाकी देशों में भी टीचर डे अलग अलग दिन मनाया जाता है।

2. 5 अक्टूबर को यूनेस्को ने Teacher Day की शुरुआत दुनिया भर में लोगों के भीतर अपने गुरुओं के सम्मान जगाने के लिए की थी। इस की शुरुआत साल 1994 से हुई थी।

 

हमारा यह लेख जरूर पढ़े:- LIC Jeevan Bima:- 7 Amazing Facts about LIC

 

3. पड़ोसी देश चीन में टीचर डे की शुरुआत साल 1931 में की थी। चीन के नेशनल सेंट्रल यूनिवर्सिटी में टीचर डे का आगाज 11 सितंबर को हुआ हालांकि इसको स्वीकृति साल 1932 में मिली। साल 1939 में कन्फ्यूशियस (चीन फिलॉसफर) के जन्म दिवस पर अगस्त 27 को मनाया जाने लगा। लेकिन इस फैसले को साल 1951 में वापस ले लिया गया।

 

यह लेख में आप जानेंगे:- Paani Ka Rang kyon nahi hota? जानिए क्यों पानी बेरंग हैं

 

4. ईरान में टीचर डे वहां के मशहूर प्रोफेसर अयातुल्लाह मोर्तेजा की मौत पर उनकी याद में मनाया जाता है। उनकी हत्या दो मई 1980 को हत्या की गई थी। 

 

5. रूस में टीचर डे 1965 से 1994 तक अक्टूबर महीने के पहले रविवार को मनाया जाता था लेकिन यूनेस्को के घोषणा के बाद रूस में भी 5 अक्टूबर के दिन को ही Teacher Day मनाया जाता है।

 

दोस्तों Teacher Day Facts के बारे में उम्मीद है आपने कुछ amazing Facts जानें अब हम कुछ भारत के दूसरे राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के बारे में कुछ बातें जानते हैं।

 

सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के बारे में कुछ बातें

 

सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का जन्म 5 सितंबर 1888 को थिरुथानी जो की तमिल नाडु में हैं वहां एक मध्य वर्गीय परिवार में हुआ था। वे शुरुआत से एक मेधावी छात्र रहे और बड़े होने पर उन्होंने फिलासफी की पढ़ाई मद्रास के क्रिश्चियन कॉलेज से पूरी की। 

 

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णनजी ने अपनी पढ़ाई भिन्न भिन्न कॉलेजों से की थी जिसमें यूनिवर्सिटी ऑफ मैसूर और कलकत्ता विश्वविद्यालय भी शामिल है।

 

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी आंध्र यूनिवर्सिटी , यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली और बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर भी रहे।

 

अतः मैं इस लेख के माध्यम से अपने सभी गुरुओं को शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। 

 

धन्यवाद

Leave a Comment