Paani ka rang kyon nahi hota? जानिए क्यों पानी बेरंग हैं

Paani ka rang kyon nahi hota? क्या ऐसा सवाल आपके दिमाग में भी आता है या फिर आप भी उसी तस्वीर को सच मान चुके हैं जिसमें पानी को दिखाने के लिए नीला रंग दिखाया जाता है। लेकिन सच इससे यानी की तस्वीर से अलग हैं बल्कि Paani ka rang होता ही नहीं वे बेरंग होता है। इस लेख में पूरी डिटेल्स से बताया जाएगा की Paani ka rang kyon nahi hota? और साथ ही साथ नीला रंग क्यों दिखाया जाता है।

Paani Ka Rang- Aayushman Khurana

यूं तो बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता और बेहद सुरीली आवाज के मालिक आयुष्मान खुराना का एक बेहद प्रचलित गाना “पानी दा रंग वेख के मेरी अंखियां च हंजू रूल गए” यानी आयुष्मान खुराना के इस गाने के लफ्ज़ के मुताबिक उन्होंने Paani ka rang देख लिया। लेकिन इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद आप इसका लिंक आयुष्मान खुराना जी से शेयर कर सकते हैं और शब्दों को एक्स्ट्रा बोल्ड करके यह कह सकते हैं “जनाब आप किसी दूसरे गृह पर हैं, पानी तो बेरंग हैं”

 

पानी पर कई लेख लिखे जा चुके हैं और कई आने वाले सालों में भी लिखे जाएंगे कोई लेख पानी की अहमियत को बताएगा कोई पानी की कमी को उजागर करेगा। कोई एडवांस मोड पर जाकर पानी की समस्या और समाधान के ऊपर एक शॉर्ट मूवी या फूल मूवी भी बना देगा लेकिन फिर भी इंसान ऐसी प्रजाति है जो चीज स्टॉक में सबसे अधिक हैं उसको खत्म करके ही मानेगा। परंतु हमें यह समझना चाहिए की धरती पर आई हुई कोई भी वस्तु या इंसान हमेशा के लिए नहीं रहते। 71 परसेंटेज पानी कब कम हो जाए किसी को पता नहीं। यह सच्चाई है और इस बात को पढ़के डर लगे तो वह भी लाजमी है।

 

दोस्तों “जल ही जीवन है” “जल है तो कल है” ऐसे स्लोगन काफी पढ़ें जाते हैं और सरकारी स्कूलों में तो लिखे तक जाते हैं लेकिन इसपे अमल नहीं किया जाता। पानी का सम्मान न करने का दुष्ट परिणाम आज कई देशों में आए बाढ़ प्रभावित इलाकों में जाकर देख सकते हैं। खैर इस ब्लॉग में हम पानी की बर्बाद होने के ऊपर नहीं बताने आए हैं क्योंकि यह किसी से छिपा नहीं हैं। इस ब्लॉग में हम जानेंगे की Paani Ka Rang kyon nahi hota? 

 

दोस्तों यह कहा जाता है की चाहे आप प्यास बुझाने के लिए कितना भी coke pepsi की बोतल खत्म कर लो लेकिन प्यास बुझती तो पानी से ही है जब पानी की बूंद मुंह से लग कर गले से होकर गुजरती है तो चैन सा मिलता है। हम अपने पूरे दिनचर्या में पानी से कई बार मिलते हैं। पीते हुए तो जरूर साथ ही साथ नहाते हुए, हाथ धोते हुए और खाना बनाते हुए भी। क्या इस दौरान पानी का रंग होता हैं। जी नहीं, पानी का रंग नहीं होता है लेकिन फिर भी हमें इसका रंग नीला दिखाई देता है।

 

साइंस में यह आपने पढ़ा होगा की पानी दो मॉलिक्यूल से उत्पन्न होता है जो है “हाइड्रोजन और ऑक्सीजन” इनमे अब्जॉर्ब करने के गुण बेहद कम होते हैं जिसके कारण समंदर और तालाब में जब सूरज की रोशनी पानी पर पढ़ती है तो यह इंसानों की नजर में नीले रंग की छवि दिखाता है। इसको डिटेल्स में समझते हैं।

 

Paani Ka Rang kyon nahi hota? इसका राज़ है Rainbow में

Rainbow

सूरज की रोशनी को साइंस की भाषा में व्हाइट लाइट या विजिबल लाइट भी कहा जाता है। लेकिन आपने देखा होगा जब भी बारिश के साथ सूरज की रोशनी पढ़ रही हो तो आसमान में सात रंगों का सुंदर जमावड़ा देखने को मिलता है जिसे rainbow कहा जाता है। Rainbow में सात रंग यानी की ‘VIBGYOR’ जो की रंग यह हैं Violet,Indigo,Blue,Green,Yellow,Orange,Red. 

 

जब बारिश की बूंदे सूरज की रोशनी में पढ़ती है तो सूरज की रोशनी सात रंगों में विभाजित होती है इसी को Rainbow कहते हैं और यही कारण पानी का रंग नीला दिखता है। 

 

जब सूरज की रोशनी समंदर के या तालाब के पानी पर पढ़ती है तो पानी में मौजूद मॉलिक्यूल यानी हाइड्रोजन और ऑक्सीजन बाकी रंगों को तो absorb कर लेता है लेकिन नीला रंग reflect हो जाता है जिससे पानी का रंग नीला दिखता है और तालाब में भी इसी प्रकार हल्का नीला दिखता है। हल्का और गाढ़ा नीला दिखने का कारण समंदर और तालाब के साइज में अंतर के कारण होता है। 

 

उम्मीद है आपको अब आपके सवाल Paani Ka Rang kyon nahi hota? का सही जवाब मिल गया होगा। ऐसे ही बाकी अमेजिंग Asli Satya facts के लिए हमारे वेबसाइट के साथ रहें। 

 

धन्यवाद

Leave a Comment